‘आप’ के वादे जिन्हें दिल्ली ने दिया जनादेश

RSTV Bureau

aapदिल्ली विधानसभा चुनाव से यह स्पष्ट हो गया कि दो साल पहले गठित आम आदमी पार्टी दिल्ली में दोबारा सरकार बनाएगी. चुनावों से पहले तो नेता कई दावे करते हैं लेकिन सत्ता में आने पर पार्टी लोगों के लिए क्या करेगी, ये बताता है पार्टी का घोषणापत्र. दिल्ली चुनाव में आम आदमी पार्टी के वादों पर दिल्ली की जनता ने अपना विश्वास जताया, तो आईए नज़र डालते है उन वादों पर जो दिल्ली के दिल को भाए.

24 घंटे बिजली वो भी आधे दामों पर

आम आदमी पार्टी ने दिल्ली में सरकार बनने पर बिजली के बिल को आधे से कम करने के वादा किया. साथ ही बिलिंग में गड़बड़ियों और मीटर की खामियों को भी दूर करने का भरोसा दिलाया. पार्टी का यह भरोसा जनता को खूब रास आया.

20 हज़ार लीटर तक पानी मुफ़्त

बिजली के बाद दिल्लीवासियों की सबसे बड़ी समस्या पानी की है. दिल्ली सरकार की पानी के लिए अक्सर अपने पड़ोसी राज्यों से ठनी रहती है लेकिन इसके विपरीत आम आदमी पार्टी ने जनता को 20 हज़ार लीटर पानी मुफ्त में देने का वादा किया और आम आदमी पार्टी के इस वादे ने भी लोगों को आकर्षित किया.

गांव की दशा बदल देंगे

पिछले विधानसभा में भाजपा को सबसे बड़ा दल बनाने में दिल्ली देहात की विधानसभा सीटों ने सबसे अहम भूमिका निभाई थी जिसके चलते आम आदमी पार्टी ने इन सीटों पर शुरुआत से ही ध्यान दिया और दिल्ली के गांवों की दिशा और दशा बदलने का वादा किया. गांव में 20 नए कॉलेज खोलने, देहाती इलाक़ों में स्टेडियम बनाने का वादे ने दिल्ली के ग्रामीण इलाकों के लोगों को ‘आप’ से जोड़ा.

महिला सुरक्षा

दिल्ली में महिलाओं के खिलाफ बढ़ते अपराध मुद्दा सबसे अहम रहा. महिलाओं के खिलाफ अपराधों को रोकने के लिए आम आदमी पार्टी महिला सुरक्षा के लिए डीटीसी बसों, बस स्टैंड और भीड़-भाड़ वाली जगहों पर सीसीटीवी, सरकार आने पर 15,000 होमगार्ड जवानों की तैनाती और सार्वजनिक परिवहनों में 5000 मार्शलों की नियुक्ति का वादा किया. साथ ही फ़ास्ट ट्रैक कोर्ट और मोबाइल पर सुरक्षा बटन का भी वादा किया. इन्हीं वादों के चलते बड़ी संख्या में महिलाओं ने ‘झाड़ू’ का बटन दबाया.

छात्रों के लिए वादों की बौछार

दिल्ली के हर बच्चे के लिए बेहतर क्वालिटी की शिक्षा सुनिश्चित करने के लिए आम आदमी पार्टी 500 नए स्कूलों का निर्माण करने, निजी स्कूलों की फीस को नियमित करने, 12वीं के बाद की पढ़ाई की इच्छा रखने वाले छात्रों को सरकारी बैंक से लोन लेने की सुविधा, 20 नए डिग्री कॉलेज, दिल्ली के प्रमुख विश्वविद्यालय, अम्बेडकर विश्वविद्यालय सहित दिल्ली सरकार के कॉलेजों में मौजूदा सीटों की क्षमता दोगुनी करने के वादों ने खास तौर पर दिल्ली के युवाओं को आम आदमी पार्टी के साथ जोड़ा.

मुफ़्त वाई फ़ाई

आम आदमी पार्टी के उदय के समय से युवाओं ने पार्टी की जड़े मजबूत करने में अहम भूमिका निभाई. सोशल मीडिया कैम्पेनिंग में भी ‘आप’ बाकी दलों से काफी आगे रही. आज के युवा की सोशल मीडिया पर मौजूदगी को समझते हुए ‘आप’ ने मुफ्त वाई फाई का वादा किया जिससे बड़ी संख्या में युवाओं और दिल्ली में रोजाना कई किलोमीटर की यात्रा करने वाले लोगों ने ‘आप’ के पक्ष में मतदान किया.

व्यापारियों को व्यापार में कोई दिक्कत नहीं
आप की सरकार दिल्ली में खुदरा क्षेत्र में एफडीआई निवेश पर रोक के अपने फैसले पर कायम रहेगी. दिल्ली में सबसे कम वैट की व्यवस्था, वैट नियमों, प्रक्रियाओं और इसके प्रारूपों को सरल बनाने, छापे और इंस्पेक्टर राज के अंत के वादे ने बड़ी संख्या में व्यापारियों को आप के साथ जोड़ा.

जनलोकपाल बिल

जनलोकपाल मुद्दे पर अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली के मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दिया. और इस मुद्दे ने आम आदमी पार्टी को सत्ता में लाने का काम किया. दिल्ली सरकार में मुख्यमंत्री, मंत्री, विधायकों समेत सभी सरकारी अधिकारी इसकी जांच के दायरे में आएंगे.

दिल्ली को पूर्ण राज्य का दर्जा

संवैधानिक ढांचे के भीतर रहते हुए आम आदमी पार्टी की सरकार दिल्ली को पूर्ण राज्य का दर्जा दिलाने के वादे ने आम आदमी पार्टी की पूर्ण बहुमत के साथ सरकार बनाने में अहम भूमिका निभाई.