कहीं जीत का जश्न, कहीं हार की हताशा

RSTV Bureau

bjp_maharastraमहाराष्ट्र और हरियाणा में भाजपा सरकार बनाने की ओर बढ़ रही है. हरियाणा में भाजपा को पूर्ण बहुमत मिला है. वहीं महाराष्ट्र में भाजपा सबसे बड़ी पार्टी के तौर पर उभर के सामने आई है.

महाराष्ट्र में भाजपा के बाद शिवसेना दूसरी बड़ी पार्टी बन गई है. महाराष्ट्र के नतीजों में सत्ताधारी कांग्रेस और एनसीपी सीटों की लड़ाई में काफी पीछे चली गईं हैं.

हरियाणा में भाजपा ने कांग्रेस को पछाड़ते हुए क्षेत्रीय पार्टियों के वोंट बैंक में भी सेंध लगा दी है.

दोनों राज्यों में सरकार बनाने और मुख्यमंत्री पद को लेकर अंतिम फैसला भाजपा का संसदीय बोर्ड करेगा.

भाजपा की जीत पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि ये नतीजे ऐतिहासिक हैं और दोनों राज्यों में जीतना पार्टी के लिए गर्व की बात है. मोदी ने जीत के लिए महाराष्ट्र और हरियाणा की जनता के साथ भाजपा कार्यकर्ताओं का भी आभार व्यक्त किया.

कांग्रेस की हार पर पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी ने कहा कि महाराष्ट्र और हरियाणा की जनता ने क्रमश: तीन और दो बार कांग्रेस पार्टी के प्रति भरोसा जताया है. हम इस हार को स्वीकार करते हैं और उम्मीद करते हैं कि दोनों राज्यों में बनने वाली सरकारें जनता से किए वादों को पूरा करेंगी.

कांग्रेस के लिए निराशाजनक रहे नतीजों पर पार्टी उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि दोनों राज्यों की जनता ने बदलाव के लिए वोट किया. राहुल ने कहा कि कांग्रेस पार्टी कड़ी मेहनत कर फिर से जनता का भरोसा हासिल करेगी.

भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने कहा दोनों राज्यों के नतीजों से सिद्ध हो गया कि मोदी देश के निर्विवादित नेता हैं. अपने विरोधियों पर निशाना साधते हुए शाह ने कहा कि इन नतीजों से ये साफ है कि मोदी लहर कमजोर नहीं हुई है बल्कि अब सुनामी बन गई है जो सभी विरोधी दलों को ध्वस्त कर देगी.

हरियाणा में दस साल से सत्ता पर काबिज कांग्रसे को करारी हार मिली है. राज्य के मुख्यमंत्री भूपिंदर सिहं हुड्डा ने अपनी हार स्वीकार करते हुए कहा मैं सोनिया जी और राज्य के जनता के प्रति आभार व्यक्त करता हूं. जिन्होंने मुझे 10 साल तक राज्य में जनता की सेवा करने का मौका दिया. नई सरकार के गठन को लेकर हुड्डा ने कहा कि नई सरकार से उम्मीद करता हूं वो कांग्रेस पार्टी की तरफ से दिखाई गई विकास की राह पर आगे चलेगी.

वहीं महाराष्ट्र में कांग्रेस के लिए निराशाजनक चुनावी नतीजों पर पूर्व मुख्यमंत्री पृथ्वीराज चव्हाण ने राज्य में कांग्रेस पार्टी की हार की नैतिक जिम्मेदारी ली है. चव्हाण ने कहा कि नतीजे बहुत ही निराशाजनक हैं और राज्य में कांग्रेस सकारात्मक विपक्ष की भूमिका निभाएगी.

चुनाव परिणामों को सकारात्मक बताते हुए सूचना और प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि जनता ने सुशासन के मुद्दे पर वोट किया है और कांग्रेस पार्टी को सिरे से नकार दिया है.

भाजपा के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी कहा कि दोनों राज्यों के नतीजे भाजपा के लिए संतोषजनक हैं. आडवाणी में भाजपा-शिवसेना के संभावित गठबंधन पर कहा कि मैं चाहता हूं महाराष्ट्र में दोनों पार्टियां मिलकर सरकार बनाएं.

हरियाणा के नतीजों पर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अशोक तंवर ने अपनी हार स्वीकार करते हुए कहा कि वे जनता के फैसले का सम्मान करते हैं और ये उनकी पार्टी के लिए आत्ममंथन का समय है.

inld_defeatहरियाणा में इनेलो दूसरी सबसे बड़ी पार्टी के तौर पर उभर के सामने आई है. पार्टी के नेता अभय चौटाला ने कहना है कि उन्हें और ज्यादा सीटों की उम्मीद थी लेकिन जनता का फैसला उन्हें स्वीकार है.

भाजपा की जीत पर कैबिनेट मंत्री नितिन गडकरी का कहना है कि दोनों राज्यों की जनता ने प्रधानमंत्री मोदी की ओर से चलाई गई विकास की लहर पर भरोसा जताया है. गडकरी ने कहा कि भाजपा दोनों ही राज्यों में सरकार बनाने जा रही है.

महाराष्ट्र में नतीजों के बाद के गठबंधन पर प्रदेश भाजपा अध्यक्ष देवेंद्र फड़नवीस का कहना है कि राज्य में शिवसेना उनकी राजनीतिक विरोधी नहीं है बल्कि भाजपा की सीधी लड़ाई कांग्रेस और एनसीपी से है. महाराष्ट्र में मुख्यमंत्री पद की दावेदारी पर फड़नवीस ने कहा कि प्रदेश में भाजपा की कमान उनके हाथों में हैं लेकिन नतीजों के बाद मुख्यमंत्री पद पर फैसला पार्टी का संसदीय बोर्ड ही करेगा.

महाराष्ट्र में कांग्रेस की हार पर कांग्रेसी नेता संजय निरुपम ने अपनी हार स्वीकार करते हुए कहा कि हम जनता का फैसला स्वीकार करते हैं. कांग्रेस पार्टी अब एक नई शुरुआत के लिए तैयार है.

एनसीपी के नेता डी पी त्रिपाठी ने चुनाव के नतीजों पर कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि कांग्रेस का तो पता नहीं लेकिन हमारी पार्टी इन नतीजों से जरूर सबक लेगी और ये पार्टी के लिए आत्मचिंतन का वक्त है. एनसीपी नेता प्रफुल पटेल ने पार्टी की ओर से भाजपा को सरकार बनाने के लिए समर्थन देने का ऐलान किया है.

शिवसेना सुप्रीमो उद्धव ठाकरे ने कहा हैं उनकी पार्टी राज्य में स्थिर सरकार चाहती है. भाजपा अगर हमारी पार्टी से समर्थन मांगती है तो उस पर विचार किया जाएगा. उद्धव ने कहा भाजपा अगर एनसीपी के साथ सरकार बनाने चाहती है तो बना सकती है.