‘कॉमन मैन’ बनाने वाले आर के लक्ष्मण नहीं रहे

SansadTV Bureau

RK_Laxmanजाने-माने कार्टूनिस्ट आर के लक्ष्मण का सोमवार को पुणे के दीनानाथ मंगेश्कर अस्पताल में निधन हो गया, वो 94 साल के थे.

हफ्ते भर पहले ही उन्हें यूरेनरी इन्फेक्शन के बाद उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया था. जहां उनके शरीर के कई अंगों ने काम करना बंद कर दिया जिसके बाद लक्ष्मण को वेंटीलटर पर रखा गया था. जहां वो डाक्टर्स की निगरानी में थे. 94 साल के लक्ष्मण की डायलिसिस भी की गई थी.

आर के लक्ष्मण का नाम दुनिया के बेहतरीन कार्नूटिस्टों में दर्ज है. उनके बनाए तमाम कार्टून आज हमारे इतिहास की धरोहर हैं. आम आदमी की रोजमर्रा की परेशानियों पर उनकी कार्टून श्रंखला खासी मशहूर रही. उसी श्रंखला के लिए बनाया गया उनका कार्टून चरित्र ‘कॉमन मैन’ काफी लोकप्रिय हुआ. आर लक्ष्मण के कार्टून देश की प्रतिष्ठित पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित हो चुके हैं.

कला के क्षेत्र में लक्ष्मण के योगदान के लिए उन्हें साल 2005 में पदम विभूषण से नवाजा जा चुका है. साल 1984 में उन्हें प्रतिष्ठित रमन मैग्सेसे सम्मान भी मिल चुका है.

आम अदमी की बात करने वाले लक्ष्मण ने एक बार कहा था ,”मुझे नहीं लगता है कि राजनेताओं को देश का प्रतिनिधित्व करने वाला कहूंगा। मुझे लगता है कि वे आम आदमी को भूल गए हैं. उन्हे लगता है कि  आम आदमी उनके अंतर्गत आता है, उनकी सेवा करने के लिए”.

आर. के. लक्ष्मण अपने बेबाक कार्टूनों के लिए जाने जाते रहे जिसमें जवाहरलाल नेहरु से लेकर आपातकाल के दौरान पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी और पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी के कार्टून शामिल हैं.

आर.के. लक्ष्मण का जन्म मैसूर में हुआ था. वे अपने 6 भाईयों में सबसे छोटे थे.