कॉरपोरेट, फिल्म और स्पोर्ट्स हस्तियों ने बढ़ाया मदद का हाथ

RSTV Bureau
File photo: Ajim Premji, chairman of Wipro Limited

File photo: Ajim Premji, chairman of Wipro Limited

बिज़नेस मैनेजमेंट का सबसे पहला और अहम नियम है अपने कारोबार की नींव को मजबूत रखना। कोरोनावायरस ने कारोबार के ऐसे हिस्से पर प्रहार किया है, जिसके बिना उसका अस्तित्व ही नहीं है। हम बात कर रहे हैं ग्राहक की। लाज़मी है कि ग्राहकों की सेहत और उनकी सलामती पर पैसा खर्च करने से अच्छा आज कोई भी निवेश नहीं हो सकता।

भारत के बड़े कारोबारी घरानो में परम्परा रही है कि जब भी देश पर कोई संकट आया है उन्होंने हर संभव सहायता देने की कोशिश की है। आज जब भारत कोरोनावायरस के खतरे के साये तले है, देश का कारोबारी समाज, बड़ी संख्या में मदद के लिए आगे आया है।

टाटा समूह ने कुल मिलाकर 1500 करोड़ रूपये की मदद का ऐलान किया है। इसमे टाटा ट्रस्ट 500 करोड़ रूपए दे रही है, जो मेडिकल सुविधाओं के विकास के लिए खर्च किये जाएंगे। टाटा सन्स ने 1000 करोड़ रूपए दिये है। इसके अलावा टाटा सन्स, वेन्टिलेटर्स का भी निर्माण करने जा रही है।

दूसरी तरफ विप्रो और अज़ीम प्रेमजी फाउंडेशन ने कोविड-19 महामारी से निपटने के लिए 1125 करोड़ रूपये की मदद देने का ऐलान किया है।

रिलायंस ग्रुप के मुखिया, मुकेश अंबानी ने भी पीएम केयर्स फंड में 500 करोड़ रूपये दिये हैं। इसके अलावा उन्होंने महाराष्ट्र और गुजरात सरकार को 5-5 करोड़ रूपए की सहायता दी है।

वेदांता समूह के चेयरमैन अनिल अग्रवाल ने भी कोरोनावायरस से लड़ने के लिए 100 करोड़ रूपये की मदद का ऐलान किया है। इसी तरह अडानी समूह ने भी 100 करोड़ रूपये की मदद का ऐलान किया है।

टेक्नॉलोजी कंपनी इंफोसिस ने भी अपने अस्पताल के 100 बिस्तरों को समाज के गरीब वर्ग के मरीज़ो के लिए सुरक्षित रख दिया है। इसके अलावा कंपनी ने 100 करोड़ रूपये की अतिरिक्त मदद करने का भी ऐलान किया है।

इसके अलावा भारती एयरटेल और वोदाफ़ोन ने भी सौ सौ करोड़ रूपये की सहायता देने का ऐलान किया है।

संकट की इस घड़ी में फिल्म और स्पोर्ट स्टार्स ने भी अपने चाहने वालों की सहायता करने का बीड़ा उठाया है। इसमें सबसे आगे हैं अक्षय कुमार, जिन्होंने पीएम केयर्स में 25 करोड़ रूपये दिये हैं।

सलमान ख़ान ने किसी राशि का तो ऐलान नहीं किया लेकिन उन्होंने 25000 दिहाड़ी श्रमिकों की देखभाल का बीड़ा उठाया है। उनकी बीइंग ह्यूमन संस्था भी सहायता के कामों में जुटी हुई है।