डीयू-यूजीसी के बीच गतिरोध बरकरार

RSTV Bureau

du_protestदिल्ली विश्वविद्यालय और यूजीसी के बीच चल रहे विवाद को निपटाने के लिए बीच का रास्ता निकालने की कोशिश जारी है.

दिल्ली विश्वविद्यालय में दाखिले को लेकर चल रहे गतिरोध के बीच डीयू में गुरुवार से 3 साल के कोर्स के भीतर दाखिले शुरू करने के यूजीसी के आदेश की अवहेलना करते हुए डीयू ने यूजीसी को तीन साल के ऑनर्स कोर्स पर एक नया प्रस्ताव भेजा है.

दिल्ली विश्वविद्यालय के प्रवक्ता मलय नीरव ने प्रेस वार्ता कर इस प्रस्ताव के बारे में जानकारी दी. डीयू के मुताबिक अगर इस प्रस्ताव को यूजीसी की हरी झंडी मिल गई तो इसे लागू करने में ज्यादा दिक्कत नहीं आयेगी.

हालांकि इस पूरे प्रेस कॉन्फ्रेंस से कोई साफ बात निकलकर सामने नहीं आई. सिर्फ यह कहा गया कि छात्रों को दोबारा एडमिशन लेने की जरूरत नहीं होगी.

गुरुवार शाम5 बजे यूजीसी स्टैंडिंग कमेटी की बैठक टाल दी गई,जिसमें डीयू के नए प्रस्ताव पर चर्चा होने वाली थी.

इससे पहले विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) ने बुधवार रात दिल्ली विश्वविद्यालय को चार वर्ष के स्नातक कार्यक्रम को समाप्त करते हुए गुरुवार से स्नातक कक्षाओं की प्रवेश प्रक्रिया शुरू करने का नया आदेश दिया था.

डीयू प्राचार्य संघ की सचिव एस लक्ष्मी देवी ने कहा, हम यूजीसी के आदेश पर सैद्धांतिक रूप से सहमत हो गए हैं, लेकिन हम विश्वविद्यालय के दिशा-निर्देश के बिना आगे नहीं बढ़ सकते. यह व्यक्तिगत फैसला नहीं है. कई कदम उठाये जाने हैं.

डीयू में दाखिले को लेकर अभी असमंजस की स्थिति बनी हुई है. विश्वविद्यालय की पहली कट ऑफ लिस्ट मंगलवार को आनी थी, जिसे फिलहाल रोक दिया गया है. ऐसे में यहां दाखिला लेने के लिए देश भर से आने वाले सैकड़ों विद्यार्थियों के लिए अभी भी तस्वीर साफ नहीं हो पाई है.

इससे पहले तीन साल बनाम चार साल कोर्स के मुद्दे पर नाराज छात्र और छात्र संगठन आइसा के कार्यकर्ताओं ने डीयू के मीडिया प्रवक्ता मलय नीरव के साथ धक्का-मुक्की की. कई आइसा कार्यकर्ताओं को दिल्ली पुलिस ने बल प्रयोग करते हुए गिरफ्तार कर लिया.