नीतीश होंगे जद( यू )-राजद के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार

Shyam Sunder
File Photo ( PTI )

File Photo ( PTI )

बिहार में जनतादल यूनाईटेड और राष्ट्रीय जनता दल गठबंधन में चुनाव लड़ेंगे. बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ही इस गठबंधन के मुख्यमंत्री पद के दावेदार होंगे. नई दिल्ली में समाजवादी पार्टी के नेता मुलायम सिंह यादव के निवास पर एक प्रैस कॉंफ्रेंस मे ये घोषणा की गई. इस प्रैस कॉंफ्रेंस में सपा प्रमुख मुलायम सिंह यादव, राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद, जेडी ( यू ) शरद यादव के अलावा सपा नेता प्रो. रामगोपाल यादव मौजूद थे.

इस गठबंधन के बीच सीटों का बंटवारा एक पेचीदा मसला है. लेकिन नीतीश कुमार को इस गठबंधन का नेता बना कर गठबंधन अगले दौर में पहुंच गया है. लालू प्रसाद ने इस बारे में प्रैस से बात करते हुए कहा कि “ वो खुद उम्मीदवार हो नहीं सकते और उनके परिवार या पार्टी में भी कोई मुख्यमंत्री पद का दावेदार नहीं है “

बिहार में जनता दल यूनाईटेड और राष्र्ट्रीय जनता दल के बीच इस सहमति के लिए लालू प्रसाद को तैयार करने में मुलायम सिंह यादव और शरद यादव की अहम भूमिका रही. इन दोनों नेताओं ने लालूप्रसाद यादव को ये समझाया कि नीतीश जो फ़िलहाल मुख्यमंत्री हैं उन्हे गठबंधन का उम्मीदवार नहीं बनाने से भ्रम की स्थिति पैदा होगी. इन दोनों नेताओं का मानना था कि चुनाव से पहले मतदाता को ये संदेश देना ज़रुरी है कि ग़ैर बीजेपी शक्तियां बिहार में गंभीरता से एकता की कोशिश कर रही हैं.

इस गठबंधन को और व्यापक बनाने के लिए गठबंधन के नेता कांग्रेस पार्टी से भी बातचीत कर रहे हैं. इस सिलसिले में नीतीश कुमार राहुल गांधी से मुलाक़ात कर चुके हैं. उन्होने पटना में एक प्रैस कॉंफ्रेंस में ये कह भी दिया कि कांग्रेस इस गठबंधन का स्वभाविक हिस्सा है.

इस गठबंधन के बाद अब बिहार में विधानसभा चुनाव के मुक़ाबले की तस्वीर कमोबेश साफ़ हो चुकी है. बिहार में विधानसभा चुनाव में बीजेपी गठबंधन और जेडीयू गठबंधन में सीधी लड़ाई होगी. हांलाकि कांग्रेस ने अभी औपचारिक तौर पर कुछ नहीं कहा है. लेकिन संभावना यही है कि वो जेडीयू और आरजेडी गठबंधन के साथ ही लड़ेगी. वैसे भी कांग्रेस बिहार के चुनाव में अलग लड़ कोई तीसरा पक्ष बन सकती है ऐसी परिस्थितियां हैं नहीं.

वामपंथी पार्टियां सीपीएम, सीपीआई और सीपीआई एमल ज़रुर अलग मोर्चा बनाकर चुनाव लड़ेंगे. लेकिन उनका सीमित आधार है. इसके अलावा भी मौटे तौर पर वो भी बीजेपी के ख़िलाफ़ ही लड़ाई लड़ेंगे.