कटरा-उधमपुर ट्रेन रूट देश को समर्पित

RSTV Bureau

narendra_modiप्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को उधमपुर−कटरा की 25.6 किलोमीटर लंबी रेललाइन का उद्घाटन कर उसे राष्ट्र को समर्पित कर दिया. उन्होंने इस रेल ट्रैक का उद्घाटन हरी झंडी दिखाकर किया.

इस मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ रेलमंत्री सदानंद गौड़ा भी मौजूद थे.

प्रधानमंत्री ने कहा कि रमज़ान जैसे पवित्र महीने में इस पवित्र काम का आगाज़ हो रहा है. उन्होंने इस मौके पर वैष्णों देवी के करोड़ों भक्तों को शुभकामनाएं देते हुए कहा कि हम विकास के ज़रिए जम्मू कश्मीर के लोगों का दिल जीतना चाहते हैं.

प्रधानमंत्री ने कहा कि उधमपुर-कटरा रेललाइन 125 करोड़ भारतीयों के लिए भेंट है. मैं देशवासियों को बताना चाहता हूं कि रेलवे और एयरपोर्ट की सेवाओं को अति-आधुनिक बनाने का हमारा सपना है.

नरेंद्र मोदी ने कहा कि अब इस रुट से वैष्णो देवी आने वाले यात्रियों को आसानी होगी, इससे जम्मू कश्मीर की विकास यात्रा बाधित नहीं होगी. प्रधानमंत्री ने कहा कि सुविधाएं बढ़ती हैं तो समय का सदुपयोग होता है.

प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत के हर नागरिक का दायित्व है कि वो जम्मू-कश्मीर में हरा भरा और सुखद माहौल बनाने में सरकार का सहयोग करे.

प्रधानमंत्री ने कहा कि यह ट्रेन श्री शक्ति एक्सप्रेस के नाम से जानी जाएगी. उन्होंने कहा कि हम अटल जी के सपनों को बढ़ाते हुए इस रुट को बनिहाल तक ले जाएंगे.

जम्मू कश्मीर के मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने प्रधानमंत्री का शुक्रिया अदा करते हुए कहा कि इस रुट से जम्मू कश्मीर की आवाम को फ़ायदा होगा. उमर अब्दुल्ला ने प्रधानमंत्री से आग्रह करते हुए कहा कि अभी जम्मू कश्मीर के स्टेशन का और ज़्यादा नवीनीकरण करने की ज़रुरत है.

नरेंद्र मोदी के आगमन को लेकर राज्य में सख़्त सुरक्षा इंतज़ाम किए गए.

गौरतलब है कि नरेंद्र मोदी के जम्मू−कश्मीर दौरे के विरोध में अलगाववादियों ने कश्मीर बंद का आहवान किया था.

श्रीनगर में सुबह से ही बंद का असर दिख रहा है. कई स्कूल, कॉलेज और बैंकिंग संस्थान बंद रहे.

उधमपुर-कटरा लाइन को बनाने में लगभग 1,132.75 करोड़ रुपये की लागत आई है. यह ट्रेन सात छोटी सुरंगों और 30 से भी ज्यादा छोटे-बड़े पुलों से होकर नई रेलवे लाइन पर चलते हुए जम्मू तक पहुंचेगी.

जानकारी के मुताबिक जम्मू मेल और संपर्क क्रांति एक्सप्रेस को भी कटरा तक बढ़ाने पर रेलवे विचार कर रहा है.

ऐसे अनुमान लगाए जा रहे है कि वाराणसी और कटरा के बीच भी एक नई ट्रेन शुरू करने पर विचार किया जा रहा है जिसका उद्देश्य दो पवित्र स्थलों को ट्रेन के माध्यम से आपस में जोड़ना है.