पाकिस्तान: आतंकी हमले में 141 लोगों की मौत

SansadTV Bureau

Pakistan_chldrn2भारी हथियारों से लैस तालिबानी आतंकवादियों ने मंगलवार को पाकिस्तान के पेशावर शहर में सेना के एक स्कूल पर अंधाधुंध गोलिया चलाई जिसमें 132 बच्चों समेत 141 लोगों की मौत हो गई. मरने वालों में नौ लोग स्कूल स्टाफ के हैं. यह बच्चों पर किए गए हमलों में अब तक का सबसे भीषण हमला है.

ख़ैबर पख़्तून ख़्वाह के मुख़्यमंत्री परवेज़ खटक ने बताया कि तक़रीबन 8 से 10 आत्मघाती हमलावरों के समूह ने सैनिक बलों के ड्रैस में स्कूल के अंदर प्रवेश कर अंधाधुंध गोलियां चलाई जिसमें तक़रीबन 126 से ज़्यादा लोगों की मौत गई.

परवेज़ खटक ने बताया कि घायलों को एलआरएच और सीएमएच अस्पताल में भर्ती कराया गया है. उन्होंने बताया कि 2 से 3 आतंकी मारे जा चुके है जबकि पांच से ज़्यादा आतंकी अभी भी स्कूल के अंदर मौजूद है. खटक ने तीन दिन तक राज्य में शोक की घोषणा की है.

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ़ ने इस घटना की कड़े शब्दों में निंदा की. उन्होंने इस घटना को राष्ट्री त्रासदी घोषित किया है. घटना का जायज़ा लेने के लिए वह पेशावर के लिए रवाना हो चुके है.

एक पुलिस अधिकारी ने बताया की स्कूल को चारो तरफ़ से सेना ने घेर लिया है और बचाव अभियान जारी है. हमले के वक़्त तक़रीबन 500 से ज़्यादा छात्र स्कूल में मौजूद थे. राज्य के सूचना मंत्री मुस्ताक़ ग़नी ने बताया कि स्कूल के पास स्थित क़ब्रिस्तान के रास्ते से आतंकवादियों ने स्कूल में प्रवेश किया. हालात को क़ाबू में करने के लिए सैन्य बलो ने स्कूल के चारों तरफ़ के रास्ते को ब्लॉक कर दिया है.

सेना ने अपने संक्षिप्त बयान में कहा कि बचाव अभियान जारी है. लगातार दोनो तरफ़ से गोला-बारी चल रहीं है काफ़ी तादाद में छात्रों और शिक्षकों को बचाया जा चुका है लेकिन कुछ शिक्षक और बच्चें आतंकवादियों द्वारा मार दिए गए है.

सीनियर नेता हिदायतुल्ला ने बताया कि मृतकों की संख्या अभी बढ़ भी सकती है जब तक ऑपरेशन जारी है कुछ कहा नही जा सकता है. अभी भी 100 से ज़्यादा लोग स्कूल के अदंर फंसे हुए है.

तहरीक- ए- इंसाफ़ पार्टी के प्रमुख इमरान खान ने इस घटना की निंदा करते हुए इसे एक बर्बरतापूर्ण घटना बताया.

स्कूल से बाहर निकले एक छात्र ने दुनिया टीवी को बताया कि चौथे पीरियड में हम लोगों ने गोलियां चलने की आवाज सुनी. जब गोलियां चलने लगी तो हम लोग समझ नहीं पाए की क्या हो रहा है तभी आर्मी के एक जवान ने हम लोगों को स्कूल के पिछले गेट से बाहर निकलने को कहा.

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पेशावर में हुए आतंकी हमले की कड़े शब्दों में निंदा करते हुए कहा कि इस तरह की घटना को अंजाम देना एक मूर्खतापूर्ण कार्य है. प्रधानमंत्री ने हमले में मारे गए लोगों के प्रति गहरी संवेदना व्यक्त की.