प्रधानमंत्री ने दिया ड्रग्स फ़्री इंडिया का नारा

RSTV Bureau

PM_mannप्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को रेडियो पर अपने खास कार्यक्रम ‘मन की बात’ में देश को संबोधित किया. प्रधानमंत्री ने इस बार कार्यक्रम के जरिए नशा करने की बुराईयों के बारे में अपने विचार रखे. प्रधानमंत्री ने कहा कि ‘मन की बात’ के जरिए मैं कभी दुख भी बांटता हूं तो कभी सुख भी बांटता हूं. मुझे अपनी नौवजवान पीढ़ी की चिंता हो रही है. ड्रग्स, नशा एक ऐसी भंयकर बुराई है जो अच्छों-अच्छों को हिला देती है.

मोदी ने ‘ड्रग्स फ़्री इंडिया’ का आह्वान करते हुए कहा कि नशे की लत से परिवार के साथ-साथ समाज की बर्बादी हो रही है. प्रधानमंत्री ने कहा कि नशे की रोकथाम के लिए जल्द ही एक हेल्पलाईन भी बनाई जाएगी. उन्होंने ड्रग्स से होने वाले नुकसान पर 3D फ़ॉर्मूले के बारे में बताया. पीएम ने कहा कि नशा ज़िंदगी में डिस्ट्रक्शन, डिवस्टेशन और डार्कनेस लेकर आता है.

उन्होंने ने कहा कि हम लोग अक्सर नशा करने वाले बच्चों को ही ग़लत इंसान समझ लेते हैं, लेकिन उन बच्चों में कोई कमी नहीं होती है. नशे की लत बुरी होती है लेकिन बच्चे बुरे नहीं होते हैं. हमें नशे को एक साइको-सोशियो-मेडिकल प्रॉब्लम की तरह ट्रीट करना पड़ेगा, इसके लिए सरकार, कानून और समाज सबको एक साथ मिलकर काम करना होगा.

पीएम मोदी ने कहा कि नशे की लत में डूबे उन नौजवानों से मैं पूछना चाहता हूं कि क्या उन्होंने कभी यह सोचा है कि जिस पैसे से वे ड्रग्स खरीदते हैं वो पैसा कहां जाता हैं. नशा करने वाले लोगों को यह भी सोचना चाहिए कि कहीं ड्रग्स से होने वाली कमाई से कोई आतंकवादी हथियार तो नहीं खरीद रहा है. प्रधानमंत्री ने कहा कि अगर ड्रग्स से बचना है तो अपने बच्चों को ध्येयवादी बनाइए और सपने देखने वाला बनाइए.

प्रधानमंत्री ने अपने संबोधन में कहा कि आगे मैं सिनेमा और खेल जगत की हस्तियों से भी आग्रह करूंगा कि वह भी ‘ड्रग्स फ़्री इंडिया’ कैंपेन को आगे बढ़ाएं. उन्होंने लोगों से सोशल मीडिया पर भी #drugsfreeindia के साथ जुड़ने की अपील की.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हाल ही के दिनों में मुंबई और जम्मू-कश्मीर के बीच हुए रणजी मैच का भी जिक्र किया. जिसमें जम्मू-कश्मीर की टीम ने मुंबई को हाराया था. प्रधानमंत्री ने आपदाग्रस्त जम्मू-कश्मीर के जज्बे को सलाम करते हुए कहा कि कई कठिनईयों के बीच कश्मीर की टीम ने अपने मज़बूत हौसलों के साथ एक शानदार जीत दर्ज़ की है. इस जीत से जम्मू-कश्मीर के युवकों ने देश को दिखा दिया कि कठिन परिस्तिथियों में भी मज़बूत हौसलों के साथ कामयाब हुआ जा सकता है.

सभी देशवासियों को क्रिसमस और नए वर्ष की शुभकामना देते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि ‘मन की बात’ कार्यक्रम को नए साल में भी जारी रखेंगे.