राज्यसभाः कार्यवाही बाधित, हनुमंत राव को छोड़ना पड़ा सदन

RSTV Bureau

HaCapture.PNG2राज्यसभा में विपक्ष की ओर से जारी गतिरोध बुधवार को भी बना रहा, जिसके चलते सभापति को सांसद हनुमंत राव से एक दिन के लिए सदन से बाहर जाने को कहना पड़ा. बार-बार बाधित होते सदन को गुरुवार तक के लिए स्थगित कर दिया गया है.

बुधवार को राज्यसभा में प्रश्नकाल के दौरान ही विपक्ष की ओर यह मांग जोरदार ढंग से की गई कि धर्मांतरण के मुद्दे पर प्रधानमंत्री सदन में आकर अपना वक्तव्य दें और सरकार का इस बारे में मत स्पष्ट करें. अपनी मांग को लेकर कांग्रेस समेत अन्य विपक्षी दलों ने भी सदन की कार्यवाही को बाधित किया और सभापति की कुर्सी तक जाकर अपना विरोध दर्ज किया.

लगातार बने गतिरोध को देखते हुए सदन की कार्यवाही बार-बार स्थगित की जाती रही.

भोजनावकाश के बाद जब सदन की कार्यवाही दो बजे फिर से शुरू हुई तो विपक्ष फिर से अपनी मांग दोहराता नजर आया. विपक्ष की ओर कांग्रेस के सांसद वी हनुमंत राव के बर्ताव को संसदीय गरिमा के खिलाफ पाते हुए सभापति मोहम्मद हामिद अंसारी ने उनसे कहा कि वो बुधवार को बाकी दिन के लिए सदन की कार्यवाही में हिस्सा न लें.

इस पर सत्तापक्ष के सांसदों ने विपक्ष को आड़े हाथों लेते हुए यह आरोप लगाया कि विपक्ष सदन की कार्यवाही को बाधित करके कई अहम बिलों और विषयों पर चर्चा नहीं होने दे रहा है जिसके कारण जन सरोकार के कई अहम मुद्दे प्रभावित हो रहे हैं.

विपक्ष ने दोहराया कि उनकी मंशा सदन को बाधित करने की नहीं बल्कि धर्मांतरण जैसे गंभीर मसले पर सरकार का पक्ष जानने की है और कहा कि प्रधानमंत्री को इस विषय पर सदन में अपना वक्तव्य देने से गुरेज क्यों हो रहा है.

उप-सभापति ने कई प्रयासों के बाद यह पाया कि ऐसी तल्ख स्थिति में सदन की कार्यवाही को चला पाना संभव नहीं है तो उन्होंने राज्यसभा को अगले दिन यानी गुरुवार सुबह 11 बजे तक के लिए स्थगित कर दिया.

पिछले कुछ दिनों से सदन में धर्मांतरण के मुद्दे पर विपक्ष का विरोध जारी है और इस कारण राज्यसभा में कार्यवाही बार-बार बाधित हो रही है.