रूस दौरे पर प्रधानमंत्री, आपसी व्यापार बढ़ाने पर ज़ोर

RSTV Bureau
Modi_putin

FILE: File Photo – PTI

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दो दिन के रूस दौरे पर बुधवार शाम मॉस्को पहुंच गए. प्रधानमंत्री की यात्रा के दौरान रूस के साथ रिश्तों को नया आयाम और दोनों देशों के बीच रक्षा, ऊर्जा और आपसी व्यापार को बढ़ावा देने पर ज़ोर होगा.

भारत और रूस के बीच बीच कई समझौते की उम्मीद है. इनमें परमाणु ऊर्जा, रक्षा सहयोग के अलावा तेल और गैस, उच्च तकनीक, कृषि और खाद्य समेत दूसरे क्षेत्रों में आपसी सहयोग बढ़ाना शामिल है. प्रधानमंत्री रूस के राष्ट्रपति व्लादीमीर पुतिन के साथ मॉस्को में गुरुवार को शिखर वार्ता करेंगे.

भारत और रूस दस साल में आपसी व्यापार को तीन गुना करना चाहते हैं. अभी सालाना व्यापार 10 अरब डॉलर से भी कम है जिसे बढ़ाकर 30 अरब डॉलर तक ले जाने का लक्ष्य है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को दौरे पर रवाना होने से पहले कहा कि “इतिहास भारत और रूस के बीच दशकों से चले आ रहे करीबी संबंधों का गवाह है। रूस दुनिया में भारत के सबसे मूल्यवान मित्रों में से एक बना हुआ है”.

“मेरी यात्रा भारत और रूस के बीच आर्थिक, ऊर्जा और सुरक्षा क्षेत्रों में सहयोग को मजबूत करेगी। हम विज्ञान और तकनीक, खनन और अन्य क्षेत्रों में भी सहयोग बढ़ाना चाहते हैं. मुझे यकीन है कि ये यात्रा दोनों देशों की जनता के बीच पहले से मजबूत संबंधों को और आगे लेकर जाएगी,” प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा.

प्रधानमंत्री अपनी यात्रा के दौरान उद्योगपतियों से मुलाकात के अलावा भारतीय समुदाय को भी संबोधित करेंगे। भारत और रूस के बीच इस यात्रा के दौरान संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के मुद्दे पर भी चर्चा होगी।

इस यात्रा से पहले विदेश सचिव एस जयशंकर ने साफ किया कि सीरिया और आतंकवाद के मसले पर भारत रूस के साथ है। मॉस्को से वापसी में प्रधानमंत्री अफगानिस्तान में भारत के सहयोग से बने संसद भवन के उद्धाटन समारोह में शामिल हो सकते हैं।