रेल का सफ़र महंगा, यात्री किराए में 14.2 फ़ीसद वृद्धि

RSTV Bureau

railway_indiaभारतीय रेल ने शुक्रवार को यात्री भाड़े में 14.2 फीसदी तक की बढ़ोत्तरी का ऐलान किया है. रेलवे ने मालभाड़े में भी छह प्रतिशत की बढ़ोत्तरी की है. बढ़ा हुआ किराया 25 जून से लागू होगा.

रेलवे ने अपने इस अहम फ़ैसले में सभी श्रेणियों के यात्री किराये और माल भाड़े में इज़ाफे की घोषणा की.

हालांकि रेलवे किराये में बढ़ोतरी का संकेत आम चुनाव के नतीजे आने के ठीक बाद मिल गया था. जिसे अब जाकर अमली जामा पहनाया गया है.

इससे पहले गुरुवार को सरकार ने इस बात का संकेत दिया था कि रेलवे में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश को मंजूरी देने और यात्री किराये को बढ़ाने के बारे में रेल बजट से पहले फैसला लिया जाएगा.

सरकार ने ये कवायद रेलवे को घाटे उबारने के तहत की है. लंबे समय से भारतीय रेल घाटे में चल रही है.

बजट से पहले इस घोषणा के बाद अब सदन में सहयोगी दलों की ओर से सरकार पर किसी तरह का दबाव बनाने या मान-मुनव्वल की गुंजाइश भी नहीं रह गई है.

महंगाई के मुद्दे पर सरकार को लगातार घेरते आ रहे विपक्ष को रेलभाड़े में वृद्धि से एक और मौका मिल गया है. विपक्ष ने इस मुद्दे पर आक्रामक ढंग से सरकार को घेरना शुरू कर दिया है.

आरजेडी सुप्रीमो और पूर्व रेलमंत्री लालू प्रसाद ने यात्री किराया बढ़ाए जाने पर तीखी आलोचना करते हुए कहा कि ‘क्या यही अच्छे दिन हैं’. वहीं समाजवादी पार्टी के नेता नरेश अग्रवाल ने सरकार के फैसले की आलोचना करते हुए कहा कि बजट से पहले किराया बढ़ाना औचित्यपूर्ण नहीं है.

पिछली यूपीए सरकार ने अंतरिम रेल बजट में यात्री किराये में किसी भी तरह की बढ़ोतरी नहीं की थी. वित्तीय वर्ष 2014-15 के लिए रेल बजट जुलाई के दूसरे सप्ताह में पेश किए जाने की उम्मीद है.