वित्तमंत्री अरुण जेटली ने संसद में पेश किया अर्थिक सर्वे

RSTV Bureau

jaitley_budgetआम बजट के ठीक एक दिन पहले बुधवार को वित्तमंत्री अरुण जेटली ने संसद के पटल पर 2013-2014 का अर्थिक सर्वे पेश किया.

सर्वे के मुताबिक देश की आर्थिक विकास दर की गति धीमी रही है, जिसका खासा असर औद्योगिक क्षेत्र पर पड़ा है.

जेटली ने खराब मानसून से निपटने को एक बड़ी चुनौती बताया.

आर्थिक सर्वे पेश करते हुए जेटली ने 5.4 से लेकर 5.9 फ़ीसद तक विकास दर होने का अनुमान जताया.

जेटली ने कहा इस वर्ष सरकार का विशेष ध्यान मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर और कृषि पर विशेष रूप से होगा.

मौजूदा कारोबारी वर्ष में अर्थिक विकास दर 5.5 फ़ीसद से 5.9 फ़ीसद के दायरे में रह सकती है. गौरतलब है कि पहले 5.5 फ़ीसद विकास दर का अनुमान था.

सर्वे में यह बात कहीं गई है कि 2013-2014 में कृषि और उसके सहयोगी क्षेत्रों में विकास की दर 4.7 रही है. पिछले दो सालों से देश के जीडीपी के विकास की दर पांच से नीचे रही है.

वित्तीय वर्ष 2013-2014 के दौरान वित्तीय घाटा 508149 करोड़ रुपए रहा है जो जीडीपी का 4.5 फ़ीसद है, जबकी 2012-2013 में यह 4.9 फ़ीसद था.