विहिप नेता आचार्य गिरिराज किशोर का निधन

RSTV Bureau

giriraj_kishoreविश्व हिंदू परिषद के वरिष्ठ नेता आचार्य गिरिराज किशोर का रविवार रात 9  बजे दिल्ली में निधन हो गया. वे 95 वर्ष के थे.

अंतिम संस्कार के बजाय गिरिराज किशोर के पार्थिव शरीर को उनकी इच्छानुसार सोमवार को दिल्ली स्थित अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) को सौंप दिया गया.

 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गिरिराज किशोर के निधन पर गहरा शोक जताया है.

उन्होंने ट्विटर के ज़रिए अपने शोक संदेश में कहा कि आचार्य गिरिराज का जीवन मातृभूमि के लिए समर्पित था.

बीजेपी के नेताओं ने शोक व्यक्त करते हुए कहा कि उन्होंने पूरी ज़िंदगी बिना किसी स्वार्थ के देश की सेवा की.

बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने अपने शोक संदेश में कहा कि आचार्य गिरिराज किशोर ने राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ और विश्व हिंदू परिषद के मार्फ़त देश और समाज की सेवा अंतिम सांस तक की. उन्होंने ने अपनी शिक्षक की नौकरी भगवान राम के नाम पर समर्पित कर दी और आपातकाल के ख़िलाफ़ लड़ाई लड़ते हुए जेल भी गए.

अमित शाह ने कहा कि बलिदान और निडरता के प्रतीक रहे गिरिराज किशोर ने समाज की सेवा की. इसके लिए वे समाज में हमेशा प्रेरणास्रोत के तौर पर याद किए जाएंगे.

वरिष्ठ बीजेपी नेता और केंद्रीय मंत्री वेंकैया नायडू ने भी आचार्य गिरिराज किशोर के निधन पर शोक जताया. उन्होंने कहा कि “मैं गिरिराज किशोर को लंबे समय से जानता हूं. विहिप नेता के रुप में उनके विचार एवं उनका जीवन नि:स्वार्थ भाव से सेवा का प्रतीक है. उन्होंने अपना जीवन राष्ट्र और हिंदुत्व के नाम समर्पित कर दिया था.”