मुक्केबाज सरिता देवी पर एक साल का प्रतिबंध

RSTV Bureau

saritadeviभारतीय मुक्केबाज सरिता देवी पर अंतरराष्ट्रीय मुक्केबाजी संघ (आईबा) ने एक साल का प्रतिबंध लगाया गया है. एशियाई खेलों सरिता देवी ने अपना कांस्य पदक पहनने से इनकार कर दिया था, जिसे खेल के नियमों के खिलाफ माना गया.

एशियाई खेलों में अपने सेमीफाइनल मुकाबले में सरिता देवी को हार का सामना करना पड़ा था. मैच में सरिका देवी रेफरी के फैसले से नाराज थी. पदक समारोह के दौराम सरिता ने कांस्य पदक ठुकराते हुए अपना विरोध जाहिर किया था, जिसके बाद से उनके खिलाफ प्रतिबंध के कयास लगाए जा रहे थे.

आईबा ने सरिता को 1 अक्टूबर 2014 से 1 अक्टूबर 2015 तक के लिए प्रतिबंधित और एक हजार स्विस फ्रेंक का जुर्माना लगाया है. आईबा के फैसले से साफ है कि वर्ष 2016 में आयोजित होने वाले रियो ओलंपिक तक सरिता देवी का प्रतिबंध खत्म हो जाएगा और वो रियो ओलंपिक में भारत का प्रतिनिधित्व कर सकेंगी. सरिता देवी पर प्रतिबंध की अवधि पदक समारोह के दिन से शुरु की गई है.

आईबा के फैसले के बाद मुक्केबाज सरिता देवी ने मुश्किल व़क्त में मदद के लिए भारतीय मुक्केबाजी संघ का शुक्रिया अदा किया. फैसले पर संतोष जताते हुए सरिता ने कहा कि अब मैं ओलंपिक खेलों में हिस्सा ले सकूंगी.

सरिता देवी के साथ आईबा ने उनके विदेशी कोच बी आई फर्नांडिस को भी दो साल के लिए प्रतिबंधित कर दिया गया है. फर्नांडिस ने भी सरिता के साथ रेफरी के फैसले पर विरोध जताया था. भारत सरकार ने पत्र लिखकर आईबा से सरिता पर लगे प्रतिबंध को हटाने की मांग की है.

दक्षिण कोरिया के इंचियोन में अक्टूबर में हुए एशियाई खेलों में सरिता देवी ने पदक समारोह के दौरान कांस्य पदक लेने से इनकार कर दिया था. सरिता ने मैच रेफरी के फैसले पर विरोध जताते हुए ऐसा किया था.