‘सरदार पटेल के बिना अधूरे हैं गांधी’

SansadTV Bureau

PM_Patel‘सरदार वल्लभ भाई पटेल के बिना महात्मा गांधी अधूरे हैं’, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सरदार पटेल की 139वीं जयंती के मौके पर ये बात कही. इस अवसर पर सरदार पटेल की जयंती को राष्ट्रीय एकता दिवस के रूप पर मनाने का भी ऐलान किया गया है.

रन फॉर यूनिटी के नाम से आयोजित कार्यक्रम में प्रधानमंत्री ने कहा कि देश के इतिहास में सरदार पटेल का अहम योगदान रहा है और इतिहास को नहीं बांटा जाना चाहिए. यह हम सब की साझी विरासत है और विचारधारा की संकीर्णता के चलते हमें किसी के योगदान को नहीं भुला सकते.

प्रधानमंत्री ने आज के दिन को राष्ट्रीय एकता दिवस के रूप में मनाए जाने की घोषणा करते हुए कहा कि देश की एकता और अखण्डता के लिए सरदार पटेल ने अपना जीवन न्यौछावर कर दिया. मोदी ने कहा ये दुर्भाग्यपूर्ण है कि 30 साल पहले आज के दिन हमारे अपने लोगों को मौत के घाट उतार दिया गया.

मोदी ने 30 साल पहले हुए 1984 के सिंख दंगों का जिक्र करते हुए देश की पहली महिला प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी को भी याद किया. आज ही इंदिरा गांधी की 30वीं पुण्यतिथि भी है.

सरदार पटेल को याद करते हुए मोदी ने कहा कि आजादी की लड़ाई में सरदार पटेल के योगदान को देखते हुए ही महात्मा गांधी ने उन्हें ऐतिहासिक दांडी यात्रा की योजना बनाने का जिम्मा सौंपा था जिसे पटेल ने सफलतापूर्वक अंजाम दिया.

प्रधानमंत्री मोदी ने इस मौके पर कहा कि जिस तरीके से स्वामी विवेकानंद के बिना रामकृष्ण परमहंस अधूरे नज़र आते हैं ठीक उसी तरह सरदार पटेल के बिना महात्मा गांधी भी अधूरे हैं.

इससे पहले शहरी विकास मंत्री वेंकैया नायडू ने सरदार पटेल को याद करते हुए कहा कि बहुत सारे लोगों का ऐसा मानना है अगर सरदार पटेल देश के पहले प्रधानमंत्री होते तो आज देश का इतिहास कुछ और होता.

सरदार पटेल की जंयती के मौके पर रन फॉर यूनिटी के नाम से आयोजित कार्यक्रम में प्रधानमंत्री समेत कई वरिष्ठ मंत्रियों ने हिस्सा लिया. साथ में पहलवान सुशील कुमार, मुक्केबाज विजेंदर सिंह, क्रिकेटर वीरेंद्र सहवाग और गौतम गंभीर भी इस कार्यक्रम का हिस्सा बने.