रूस से फ़ासले के दूरगामी परिणाम …

  तुम्हें गैरों से कब फुर्सत और हम गम से हैं कब खाली, चलो बस हो गया मिलना, न तुम खाली, न हम खाली…’, एक रूसी पत्रकार ने डॉक्टर मनमोहन सिंह के

Continue Reading

दुधारी तलवार है सोशल मीडिया

कुछ हफ्ते पहले कॉमेडियन कपिल शर्मा ने सोशल मीडिया पर भ्रष्टाचार का मुद्दा उठाया . उन्होंने न केवल प्रधानमंत्री को टैग किया बल्कि अच्छे दिनों पर

Continue Reading

नेपाल से रिश्तों पर कितना प्रचण्ड असर

नेपाल में पुष्प कमल दहल उर्फ प्रचंड के रूप में बदलाव का नया सवेरा हुआ है. यह बदलाव केवल मुल्क की अंदरूनी परिस्थतियों को ही प्रभावित नहीं करेगा,

Continue Reading

दक्षिण चीन सागर में भारत का बहुत कुछ दाँव पर है

दक्षिण चीन सागर पर हेग अंतरराष्ट्रीय मध्यस्थता अदालत के फैसले से प्रशांत महासागर क्षेत्र में तनाव है. कोर्ट ने इस इलाके पर चीन के दावे को खारिज

Continue Reading

चीन के लिए अभी भी एमटीसीआर दूर है

न्यूक्लियर सप्लायर ग्रुप यानी कि एनएसजी में एंट्री की भारत की कोशिशें विफल होने से मायूस देश के लिए दो दिन बाद ही अच्छी खबर आई जब उसे मिसाइल

Continue Reading

जहां यमराज भी आपके साथ सफ़र करते हैं

देश के बेहतरीन और शानदार हाईवे में शुमार यमुना एक्सप्रेस वे इन दिनों किसी भी वाहन चालक को जन्नत की सैर कराने के लिए जानी जा रही है. चौड़ी सड़क,

Continue Reading

अफ्रीका से रिश्तों का नया सिलसिला

मैं अपने साथी भारतीयों से अपील करती हूं कि अगली बार जब आप किसी अफ्रीकी नागरिक से मिलें तो उससे हाथ मिलाएं और कहें कि भारत आपसे प्यार करता है.

Continue Reading

क्यों छूटते हैं दुष्कर्म के अपराधी ?

साल 2012 के आखिरी दो हफ्ते भारत के लिए बाकी दुनिया से काफी अलग थे. पूरी दुनिया जहां नए साल के स्वागत की तैयारियों में व्यस्त थी, वहीं भारत में एक

Continue Reading

क़ुदरत का चेतावनी भरा संदेश

भूकंप से एक बार फिर पूरी दुनिया खौफ में है. वजह है दुनिया के अलग-अलग हिस्सों में एक के बाद एक आए तीव्र भूकंप. वैज्ञानिक चिंता में हैं और सरकारें

Continue Reading

म्यांमार में लोकतंत्र के पेंच

दशकों तक सैन्य शासन का दंश झेलने वाले म्यांमार में अब लोकतंत्र का उदय हो चुका है। आंग सान सू ची की नेशनल लीग फॉर डेमोक्रेसी (एनएलडी) ने

Continue Reading

MGNREGA के दस साल

एक वक्त ऐसा भी आया, जब इस योजना के औचित्य पर भी सवाल उठे । हालांकि इसकी वाजिब वजह भी रहीं। चूंकि मनरेगा का लाभार्थी वर्ग अशिक्षित था, इसलिए लागू

Continue Reading

जनता को फायदा क्यों नहीं देते बैंक ?

एक लंबे अंतराल के बाद रिज़र्व बैंक ने बीते दिनों रेपो और रिवर्स रेपो रेट में 0.50 प्रतिशत की कमी का ऐलान किया. यह खबर जितनी उद्योग जगत के लिए

Continue Reading