विश्व दूरसंचार दिवस: संवाद को गढ़ते संचार माध्यम

Ritu Kumar
थोड़ी देर के लिए कल्पना कीजिए कि आप आज से एक शताब्दी पहले की दुनिया में जी रहे हैं और कोविड-19 जैसी महामारी फैली हुई है। साथ ही पूरी दुनिया आज की

Continue Reading

गुरुदेव रवीन्द्रनाथ ठाकुर: मानवता के कवि

Ritu Kumar
मानव सभ्यता के इतिहास में विरले ही कुछ महापुरुष पैदा होते हैं जिन्हें देशकाल की सीमाएं बांध नहीं पाती। ऐसी विलक्षण महापुरुषों की प्रतिभा का परिचय

Continue Reading

महात्मा बुद्ध: करुणा और प्रेम के प्रतीक

Ritu Kumar
महात्मा बुद्ध ने कहा है “ मेरे पास आना, लेकिन मुझसे बंध मत जाना। तुम मुझे सम्मान देना, सिर्फ इसलिए कि मैं तुम्हारा भविष्य हूँ। तुम मेरे जैसे हो

Continue Reading