सीमा पर संघर्ष विराम का उल्लंघन, गोलीबारी जारी

RSTV Bureau

pakistan_firing465पाकिस्तान की ओर से सीमा पर भारी गोलीबारी में दो स्थानीय नागरिकों की मौत हो गई जबकि एक जवान समेत छह लोग घायल हुए हैं. सीमा पर पाकिस्तान की ओर से लगातार संघर्ष विराम का उल्लंघन जारी है. आधिकारिक सूत्रों के मुताबिक पाकिस्तान ने जम्मू में भारतीय सीमा की 22 चौकियों और 13 गांवों को अपना निशाना बनाया.

सीमा पर हुई हालिया गोलीबारी की घटना के बाद इलाके में तनाव का माहौल है. अरनिया और आरएस पुरा सेक्टर में भारी गोलीबारी से 3000 से ज्यादा लोगों को अपना घर-बार छोड़ना पड़ा. अधिकारियों के मुताबिक सीमावर्ती इलाके में रहने वाले लोगों को सुरक्षित स्थान पर ले जाया गया है. पाकिस्तान की ओर से पुंछ के हमीरपुर सब-सेक्टर पर भी हमले किए गए.

सीमा सुरक्षा बल के अधिकारी ने बताया के भारतीय टुकड़ी को भी पाकिस्तानी गोलीबारी का मुंहतोड़ जबाब देने के आदेश दे दिए गए है. पाकिस्तान की ओर से पिछले 15 दिनों में 16 बार संघर्ष विराम का उल्लंघन किया जा चुका है.

हाल ही में देश के रक्षा मंत्री अरुण जेटली ने ये बयान दिया था कि सीमा पार से किसी भी तरह की गोलीबारी और घुसपैठ को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा. ऐसे में पाकिस्तान की ओर से इस गोलीबारी के बाद सीमा पर तनाव और बढ़ सकता है.

उधर जम्मू में नियंत्रण रेखा के पास सुरंग मिलने की ख़बर से इलाके में सनसनी फैल गई है. सेना के एक वरिष्ठ आधिकारी के मुताबिक जम्मू के अख़नूर सेक्टर में पाकिस्तान की सीमा से जुड़ी इस सुरंग का पता तब चला जब सेना के जवान इस इलाके में गश्त पर थे.

सेना की ओर से पूरे इलाके की छान-बीन शुरु कर दी है. अधिकारी ने बताया कि सेना की टुकड़ी को शुक्रवार की रात चाका पोस्ट के पास इस सुरंग का पता चला.

ये सुरंग उस इलाके में मिली है जहां बीती 22 जुलाई को सीमा पार से घुसपैठ की कोशिश की गई थी. इस संघर्ष में एक चरमपंथी की मौत हुई थी और सेना का एक जवान शहीद हुआ था. सेना के एक अधिकारी ने इस बात की जानकारी दी.

हालांकि सेना के आधिकारी ने कहा कि सुरंग के होने और न होने पर अभी संशय बरकरार है इसके बाबजूद इलाके में निगरानी बढ़ा दी गई. अधिकारी ने बताया कि अभी तक इलाके में किसी भी तरह की सुरंग होने के संकेत नहीं मिले हैं.

सुरंग की जनाकारी मिलने के बाद सेना के इंजीनियर और तकनीकी दल को सुरंग के बारे में बारीकी से जांच करने के लिए घटनास्थल पर भेजा गया है.

पाकिस्तान की ओर से लगातार घुसपैठ और संघर्ष विराम के उल्लंघन की खबरें आ रही हैं. पिछले दिनों ही  कश्मीर के अलगाववादी नेताओं ने पाक प्रतिनिधि मंडल से मुलाकात की थी. जिसके विरोध स्वरूप भारत और पाकिस्तान के बीच 25 अगस्त को होने वाली सचिव स्तरीय वार्ता को रद्द किया गया है.

नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली एनडीए सरकार ने सत्ता में आते ही पाकिस्तान के साथ बेहतर संबंध स्थापित करने के प्रयास किए थे. इसी के मद्देनज़र पाक प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ़ को मोदी के शपथ ग्रहण में आने का न्यौता भेजा गया था. लेकिन सीमा पर मौजूदा स्थिति से निपटना और पाकिस्तान के साथ संबंधों में सुधार लाना सरकार के लिए काफी चुनौतीपूर्ण साबित होगा.