‘मैरी कॉम’ मेरा और मणिपुर का चेहराः मैरी कॉम

RSTV Bureau

kom_priyankaविश्व चैम्पियन मुक्केबाज एम सी मैरी कॉम बॉलीवुड अदाकारा प्रियंका चोपड़ा को अपनी बॉक्सिंग एकेडमी का ब्रांड एम्बेसडर बनाना चाहती हैं. प्रियंका ने हाल ही में रिलीज हुए ‘मैरी कॉम’ में मुक्केबाज मैरी कॉम का किरदार निभाया है. ये फिल्म मैरी कॉम के जीवन पर आधारित है.

मणिपुर के इंफाल स्थित मैरी कॉम की बॉक्सिंग एकेडमी के काम को आगे बढ़ाते हुए मुक्केबाज मैरी कॉम देश के अलग-अलग राज्यों में बॉक्सिंग को बढ़ावा देने के लिए एकेडमी खोलने की इच्छा जताई है. मैरी कॉम 2006 से यहां बॉक्सिंग एकेडमी चला रही हैं. मैरीकॉम को उम्मीद हैं कि प्रियंका चोपड़ा बॉक्सिंग एकेडमी की ब्रांड एम्बेसडर बनने के लिए तैयार हो जाएगी.

प्रियंका चोपड़ा के साथ जुड़ने को बारे में मैरी कॉम कहती है कि अगर प्रियंका साथ आती हैं तो ये मुक्केबाजी के लिए बेहतर होगा क्योंकि मुझे देश के अलग-अलग हिस्सों से समर्थन की ज़रूरत है. मैरी कॉम का मानना है कि इससे युवाओं में मुक्केबाजी को लेकर रुझान पैदा किया जा सकता है.

मुक्केबाज मैरी कॉम इंफाल में एक बॉक्सिंग एकेडमी चलाती हैं. जहां करीब 33 खिलाड़ी मैरी कॉम की देख-रेख में बॉक्सिंग सीख रहे हैं. मणिपुर सरकार ने पहले ही एकेडमी को बढ़ावा देने के मकसद से मैरीकॉम को 3.3 एकड़ जमीन दे चुकी है. जबकि केंद्र सरकार ने भी बॉक्सिंग एकेडमी में सुविधाएं मुहैय्या कराने के उद्देश्य से 4 करोड़ रुपए दिए थे.

लंदन ओलंपिक में कांस्य पदक जीतने वाली मैरी कॉम ने एकेडमी के बारे में बताते हुए कहा कि एकेडमी परिसर बनकर तैयार हो चुका है. वहां जल्द ही 100 खिलाड़ीयों के लिए रहने और मुक्केबाजी सीखने के पूरे इंतज़ाम मौजूद रहेंगे.

‘मैरी कॉम’ फिल्म में प्रियंका चोपड़ा की जगह किसी और मणिपुरी कलाकार को रोल न देने के सवाल पर मैरी कॉम ने कहा कि भले ही प्रियंका यहां की रहने वाली न हो लेकिन अगर निर्माता ने प्रियंका जैसी मशहूर अभिनेत्री को फिल्म में लेने का फैसला किया है तो मैं इससे सहमत हूं. मैरी कॉम ने कहा प्रियंका फिल्म का हिस्सा न होती तो शायद फिल्म हिट नहीं हो पाती.

फिल्म में अपनी कहानी दोहराई जाने पर खुशी जताते हुए मैरी कॉम ने कहा कि देश में कई लोग मेरे बारे में नहीं जानते. मैंने विश्व चैंपियनशिप के साथ-साथ ओलंपिक में भी पदक हासिल किया है. मुझे लगता है कि ‘मैरी कॉम’ से लोगों को न सिर्फ़ मेरे बारे में बल्कि मणिपुर के बारे में भी जानने में मदद मिलेगी और ये मेरे लिए गर्व का बात है.