मैरी कॉम का ‘सुनहरा’ मुक्का, भारत को सातवां स्वर्ण

RSTV Bureau

marykomBभारत की स्टार मुक्केबाज एम सी मैरी कॉम ने बुधवार को इंचियोन एशियन खेलों में स्वर्ण पदक जीता. मैरी कॉम ने भारत को 17वें एशियाड में सातवां स्वर्ण पदक दिलाया. मैरी कॉम ने एशियन खेलों में स्वर्ण पदक जीतने वाली भारत की पहली महिला मुक्केबाज होने का गौरव हासिल किया.

भारत एशियन खेलों के ग्यारहवें दिन 7 स्वर्ण, 9 रजत और 33 कांस्य पदक के साथ कुल 49 पदक जीत चुका है. अंकतालिका में भारत दसवें स्थान पर काबिज है.

मैरी कॉम ने 51 किलो ग्राम भार के महिला वर्ग मुकाबले में कजाकिस्तान की मुक्केबाज झाइना शिकरविकोवा को 2-0 शिकस्त देकर स्वर्ण पदक अपने नाम किया. एशियाड में मैरी कॉम का ये पहला स्वर्ण पदक है. इससे पहले 2010 के गुआंगझू खेलों में मैरी को कांस्य पदक से संतोष करना पड़ा था.

मैरी कॉम ने रियो ओलंपिक में स्वर्ण पदक जीतने का लक्ष्य तय कर रखा है. हाल ही में आयोजित ग्लासगो राष्ट्रमंडल खेलों में मैरी हिस्सा नहीं ले पायीं थी. स्वर्ण पदक जीतने के बाद खुशी जताते हुए मैरी कॉम ने कहा कि पिछले एशियाड और ओलंपिक खेलों में कांस्य पदक जीतने के बाद एशियन खेलों में पहला स्वर्ण पदक जीतना मेरे लिए खुशी की बात है.

मैरी ने कहा कि मैंने अपने परिवार और बच्चों की देखभाल को छोड़कर इस पदक के लिए कड़ी मेहनत की है. मैरी ने पदक जीतने के बाद अपने सभी प्रशंसकों का भी शुक्रिया अदा किया.

पांच बार विश्व चैपिंयन रह चुकी मैरी कॉम ने लंदन ओलंपिक में भी कांस्य पदक हासिल किया था. इसके साथ ही मैरी को खेलों में योगदान के लिए पदम भूषण और राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार से भी नवाजा जा चुका है. हाल ही में मैरी कॉम के जीवन पर आधारित एक बायोपिक फिल्म ‘मैरी कॉम’ भी आ चुकी है, जिसने दर्शकों की खूब तालियां बटोरी थीं.