महबूबा मुफ्ती का मुख्यमंत्री बनना लगभग तय; ताजपोशी में अभी वक्त

RSTV Bureau
Photo – PTI

Photo – PTI

पीडीपी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती का जम्मू-कश्मीर की पहली महिला मुख्यमंत्री बनना लगभग तय है. लेकिन उनकी अगुवाई में प्रदेश में सरकार गठन में अभी वक्त लगेगा. शुक्रवार को दिन भर सरकार गठन की कवायद को लेकर चर्चा का दौर जारी रहा. इस सिलसिले में गठबंधन सरकार में उसकी सहयोगी बीजेपी की श्रीनगर में बैठक हुई जिसमें पार्टी महासचिव राम माधव भी शामिल हुए.

मुख्यमंत्री के तौर पर महबूबा मुफ्ती के नाम पर बीजेपी पहले ही सहमति जता चुकी है. लेकिन महबूबा मुफ्ती मुख्यमंत्री पद की शपथ तभी ले सकती हैं जब बीजेपी उन्हें समर्थन देने के बारे में राज्यपाल को सूचित करेगी. पीडीपी के सभी विधायकों ने महबूबा मुफ्ती को गुरुवार को अपना नेता चुना था.

महबूबा मुफ्ती ने 1996 में कांग्रेस पार्टी के टिकट पर अनंतनाग की बिजबेहड़ा सीट से पहली बार विधान सभा चुनाव जीता. 1999 में महबूबा मुफ्ती और उनके पिता ने कुछ प्रमुख सहयोगियों के साथ मिलकर पीडीपी का गठन किया. इसके बाद 2002 में उन्होंने पहलगाम विधानसभा सीट से जीत हासिल की. 2004 में महबूबा मुफ्ती अनंतनाग सीट से पहली बार लोक सभा चुनाव जीतने में कामयाब रहीं. मई, 2014 में उन्होंने अनंतनाग सीट से दोबारा लोक सभा चुनाव जीता.

File Photo – PTI

File Photo – PTI

महबूबा मुफ्ती के पिता और जम्मू-कश्मीर के मुख्यमंत्री मुफ्ती मोहम्मद सईद का गुरुवार सुबह दिल्ली के एम्स में निधन हुआ. 79 साल के मुफ्ती मोहम्मद सईद को 24 दिसंबर को घातक संक्रमण और निमोनिया से पीड़ित होने के चलते श्रीनगर से दिल्ली लाया गया था. इस दौरान उनके प्लेटलेट्स खतरनाक स्तर तक गिर गए थे. एम्स में पिछले कुछ दिनों से वो वेंटिलेटर पर थे. दिल्ली से मुफ्ती मोहम्मद सईद का पार्थिव शरीर श्रीनगर लाए जाने के बाद उन्हें अनंतनाग जिले में पैतृक गांव बिजबेहड़ा में गुरुवार देर शाम सुपुर्द-ए-खाक कर दिया गया. जम्मू-कश्मीर सरकार ने सात दिन के राजकीय शोक और गुरुवार को छुट्टी की घोषणा की.

मुफ्ती मोहम्मद सईद ने पिछले साल एक मार्च को पीडीपी-बीजेपी गठबंधन सरकार में मुख्यमंत्री के तौर पर कार्यभार संभाला था. 87 सदस्यीय जम्मू-कश्मीर विधानसभा में पीडीपी ने 28 और बीजेपी ने 25 सीटें जीती थीं. जबकि विपक्षी नेशनल कॉन्फ्रेंस ने 15 और कांग्रेस को 12 सीटों पर जीत मिली थी.