पठानकोट हमले की दुनिया भर में निंदा, एनआईए प्रमुख ने किया दौरा

RSTV Bureau
Photo – PTI

Photo – PTI

पठानकोट वायु सेना अड्डे पर हुए आतंकी हमले की दुनिया भर में निंदा हो रही है. फ्रांस ने भी इस हमले की कड़ी निंदा की है. फ्रांस सरकार का कहना है कि आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में वो भारत के साथ है. फ्रांस से पहले जापान ने कहा कि आतंकवाद को किसी भी वजह से सही नहीं ठहराया जा सकता. जापान ने भारत की सरकार और जनता के साथ एकजुटता भी जाहिर की.

इससे पहले अमेरिका, चीन, पाकिस्तान और अफगानिस्तान भी इस हमले की निंदा कर चुके हैं। अमेरिका ने कहा कि वह पाकिस्तान से अपेक्षा करेगा कि वह आतंकी हमले को अंजाम देने वालों के खिलाफ कार्रवाई करे. चीन के विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता हुआ चुनयिंग ने मंगलवार को कहा कि “हम इस हमले की निंदा करते हैं. ये हमला भारत-पाकिस्तान संबंधों में सुधार की कोशिश में बाधा पहुंचाने की मंशा से किया गया हो सकता है”. अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी ने इस मामले में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मंगलवार को फोन पर बात की थी. संयुक्त राष्ट्र महासचिव बान की मून और पाकिस्तान के राष्ट्रपति ममनून हुसैन ने भी इस हमले की कड़ी निंदा की.

Photo – PTI

Photo – PTI

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने पठानकोट आतंकी हमले में शामिल आतंकियों के खिलाफ जल्दी और निर्णायक कार्रवाई का भरोसा दिया है. नवाज शरीफ ने मंगलवार दोपहर कोलम्बो से प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को फोन कर ये बात कही. नवाज शरीफ ने ये भी कहा की आतंकवादी हमेशा वार्ता बहाली के गंभीर प्रयासों को नाकाम करने की कोशिश करते हैं लिहाजा दोनों देशों को समग्र वार्ता पर आगे बढ़ना चाहिए. पीएमओ के मुताबिक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जोर देकर कहा कि पाकिस्तान को इस हमले के लिए जिम्मेदार लोगों और संगठनों के खिलाफ ठोस और तत्काल कार्रवाई करने की जरूरत है. नरेंद्र मोदी ने नवाज शरीफ को बताया कि इस बारे में विशिष्ट और कार्रवाई करने लायक सूचना मुहैया कराई गई है.

इस बीच पठानकोट वायु सेना अड्डे पर हमला करने वाले आतंकियों के खात्मे के बाद तलाशी अभियान बुधवार को पांचवें दिन भी जारी रहा। राष्ट्रीय जांच एजेंसी पठानकोट आतंकी हमले की जांच में जुटी हुई है. एनआईए के महानिदेशक शरद कुमार ने बुधवार दोपहर पठानकोट में वायु सेना अड्डे का दौरा किया. हमले में शामिल आतंकवादियों की राष्ट्रीयता के सवाल पर एनआईए प्रमुख शरद कुमार ने मंगलवार को कहा कि फिलहाल जो सबूत मिले हैं वे आतंकियों और सीमा पार से उनके परिजनों के बीच बातचीत पर आधारित हैं. शरद कुमार के मुताबिक हमले के पीछे की साजिश की गुत्थी सुलझाना बड़ी चुनौती है और इसके लिए काफी जांच की जरूरत है. आईजी संजीव कुमार की अगुवाई में एनआईए की 20 सदस्यीय टीम पठानकोट में पहले से ही मौजूद है. एनआईए ने इस पूरे मामले की जांच के लिए तीन केस दर्ज किए हैं.

Photo – PTI

Photo – PTI

इससे पहले मंगलवार सुबह भारत और पाकिस्तान के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकारों की भी फोन पर बात हुई थी. पाकिस्तान के एनएसए नसीर खान जंजुआ ने अपने समकक्ष अजीत डोभाल को फोन कर भारत की ओर से मुहैया कराई गई जानकारियों और सबूतों पर बातचीत की.

उधर, पठानकोट में वायु सेना अड्डे का दौरा करने के बाद रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने मंगलवार को कहा था कि हमले में शामिल आतंकियों के पास पाकिस्तान में बने हथियार और साजो-सामान बरामद हुए हैं. रक्षा मंत्री ने ही इस बात की औपाचारिक जानकारी दी कि कुल छह आतंकी मारे गए हैं और वायु सेना अड्डे के अंदर अब किसी आतंकी के छिपे होने की आशंका नहीं है. मनोहर पर्रिकर ने वायु सेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल अरूप राहा और थल सेना प्रमुख जनरल दलबीर सिंह सुहाग के साथ वायु सेना अड्डे का दौरा किया था. उन्होंने बताया कि सुरक्षाबलों की आतंकियों के साथ मुठभेड़ शनिवार तड़के साढ़े तीन बजे शुरू हुई थी जो रविवार देर शाम साढ़े सात बजे तक चली. इस पूरे अभियान में एनएसजी के लेफ्टिनेंट कर्नल निरंजन कुमार समेत कुल सात सुरक्षाकर्मी शहीद हुए.