दखलंदाजी बंद होने पर ईरान से सामान्य होंगे संबंध: सऊदी अरब

RSTV Bureau

सऊदी अरब का कहना है कि अगर ईरान दूसरे देशों के आंतरिक मामलों में दखलंदाजी बंद कर दे तो उसके साथ दोबारा संबंध कायम किया जा सकता है. संयुक्त राष्ट्र में सऊदी अरब के राजदूत अब्दुल्लाह अल मौआलिमी का कहना है कि ईरान सऊदी अरब समेत दूसरे देशों के आंतरिक मामलों में दखल दे रहा है.

Photo courtesy: UN

Photo courtesy: UN

हालांकि सऊदी अरब ने सीरिया और यमन की शांति वार्ताओं से अलग नहीं होने की बात कही है. अब्दुल्लाह अल मौआलिमी के मुताबिक मनमुटाव के बावजूद सीरिया और यमन में शांति की दिशा में काम करने के लिए सऊदी अरब संकल्पित है

इस बीच संयुक्त राष्ट्र के महासचिव बान की मून ने सऊदी अरब और ईरान से ऐसा कोई भी कदम नहीं उठाने की गुजारिश की है जिससे तनाव बढ़े. बान की मून ने दोनों देशों के विदेश मंत्रियों को सोमवार को फोन कर ये अपील की. बान की मून के प्रवक्ता स्टीफन दुजारिक ने तेहरान में सऊदी दूतावास पर हमले को वियना संधि का उल्लंघन बताया है, दुजारिक ने कहा कि इस संधि के तहत सभी कूटनीतिक मिशनों और राजनयिकों की हिफाजत करना उस देश की जिम्मेदारी है जहां वो काम करते हैं. अमेरिका और तुर्की ने भी शिया धर्मगुरू शेख अल निम्र को फांसी देने के फैसले को गलत बताया है और दोनों देशों से तनाव कम करने की अपील की है. ईरान ने राजनयिक रिश्ते खत्म करने के सऊदी अरब के फैसले की निंदा की है.

Photo – PTI

Photo – AFP/PTI

ये सारा मामला शनिवार को सऊदी अरब में शिया धर्मगुरू शेख निम्र अल निम्र और 46 दूसरे कैदियों को फांसी दिए जाने के बाद शुरू हुआ. इन सभी लोगों पर किसी ना किसी रूप में आतंकवाद फैलाने का आरोप था. इसके विरोध में ईरान की राजधानी तेहरान में सऊदी दूतावासों में जमकर तोड़फोड़ हुई. इसके बाद सऊदी अरब ने रविवार को ईरान के साथ राजनयिक रिश्ते खत्म किए तो सोमवार को व्यापार और यात्रा संबंध तोड़ने का भी ऐलान किया। सूडान और बहरीन ने भी सऊदी अरब की राह पर चलते हुए ईरान के साथ कूटनीतिक रिश्ते ख़त्म कर दिए हैं. उधर, संयुक्त अरब अमीरात ने ईरान के साथ कूटनीतिक रिश्ते का दर्जा घटा दिया है तो कुवैत ने मंगलवार को तेहरान से अपना राजदूत बुला लिया.

इस बीच सऊदी अरब और ईरान के बीच बढ़ते तनाव के चलते सोमवार को कच्चे तेल की कीमतों में दो फीसदी की बढ़ोतरी दर्ज की गई. सऊद अरब और ईरान दोनों ही 13 तेल उत्‍पादक देशों के संगठन ओपेक के प्रमुख सदस्य हैं. सऊदी अरब दुनिया में सबसे ज्यादा तेल निर्यात करने वाला देश है.