अनलॉक-1.0 के बाद पटरी पर लौटती जिंदगी में हमें अपने जीने के तरीकों को बदलना होगा: एम. वेंकैया नायडू

RSTV Bureau
जब ‘छूना’ वर्जित हो जाए और जीवन के लिए जरूरी ‘सांस’ भी जोखिमभरी हो जाए तो पूरी मानवता ही मुश्किल में आ जाती है। जब तक वायरस को रोक नहीं लिया

Continue Reading